Mai Jalta Raha | Diwali, Hindi Poem

Diwali Lamps
























मैं जलता  रहा,
हवाओं से लड़ता रहा ॥
मोम पिघलता रहा,
आसुओं सा  टपकता रहा ॥

बरसों से सोया आसमान,
आज सारी रात चमकता रहा ॥
बरसों से ख़ामोश जहान,
आज सारी रात गूंजता रहा ॥

मैं देखता रहा,
मैं सुनता रहा ॥
बिजली की नई रौनकों से जुदा,
मैं इक पूजा कि थाली में जलता रहा ॥

मैं जलता  रहा,
हवाओं से लड़ता रहा ॥
मोम पिघलता रहा,
आसुओं सा  टपकता रहा ॥

दीपावली रौशनी का त्यौहार है। इसे किसी के अंधकारित जीवन में उजाले का संचार कर मनाएं । आपको, आपके परिवार एवं मित्रों को GvSparx की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ।

Share this: